3 माह के बच्चे ने कोरोना को हराकर पाया नया जीवन: मेरठ मेडिकल लाइव

देश-दुनिया सिटी स्वास्थ्य

एक्सक्लूसिव

जाको राखे साईंया, मार सके न कोए, इस कहावत को चरितार्थ किया है मेरठ मेडिकल कॉलेज में कोरोना से जिंदगी की जंग लड़ने वाले महज 3 माह के बच्चे ने।

विभूति रस्तोगी, मैनेजिंग एडिटर

मेडिकल कॉलेज मेरठ में 3 माह के बच्चे ने कोरोना को हराकर नया जीवन प्राप्त किया । यह बच्चा जब 3 माह का था तब इसको कोविड-19 होने के कारण बाल रोग विभाग में ऑक्सीजन लेवल कम होने तथा गंभीर स्थिति में होने के कारण भर्ती कराया गया बच्चा मेरठ के एक निजी चिकित्सालय से गंभीर हालत में आया तथा उसको तुरंत वेंटीलेटर पर भर्ती कर इलाज प्रारंभ किया गया जहां उसका लगभग 24 दिनों तक लगातार इलाज चला इस इलाज के दौरान बच्चे को रैमडिशिविर इंजेक्शन तथा खून ना जमने की दवा दी गई 24 दिन भर्ती रहने के बाद वर्तमान में बच्चा पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद बच्चे को परिवार के हवाले कर दिया गया बच्चे की सही देख रेख उसके माता-पिता ने मेडिकल कालेज के बाल रोग विभाग के डॉक्टर नवरत्न गुप्ता उसकी टीम का आभार व्यक्त किया।


बच्चे को कई दिनों तक वेंटिलेटर पर रखा गया: डॉ. विजय

डॉ विजय जायसवाल विभाग अध्यक्ष बाल रोग विभाग ने बताया कि बच्चे को कई दिनों तक वेंटिलेटर पर रखा गया और 24 दिनों तक लगातार इलाज होने के बाद बच्चा स्वस्थ हुआ है।

बच्चे की हालत गंभीर थी इलाज के दौरान बच्चे को रैमडिसवेर इंजेक्शन तथा खून ना जमने की दवा दी गई: डॉ. नवरतन गुप्ता

डॉक्टर नवरतन गुप्ता नोडल अधिकारी पीआईसीयू ने बताया कि शुरू में बच्चे की हालत गंभीर थी इलाज के दौरान बच्चे को रैमडिसवेर इंजेक्शन तथा खून ना जमने की दवा दी गई जिससे बच्चे की हालत सामान्य होने के पश्चात बच्चे को उनके परिवार के हवाले कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.