लक्ष्मीकांत वाजपेयी केंद्र में बनेंगे ब्राह्मण का बड़ा चेहरा, राज्यसभा सांसद बनने के बाद 9 आएंगे मेरठ, तैयारियां जोरो पर

देश-दुनिया राजनीति
  • एक समय मेरठ से लेकर केंद्र तक के नेताओं व संगठन के लोगों में अप्रभावहीन रहे डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को लेकर सीएम योगी हमेशा से संजीदा रहे हैं।
  • मेरठ में पत्रकारिता के दौरान हमने बीते 4 सालों में यह शिद्दत से महसूस किया कि मेरठ के स्थानीय भाजपा नेताओं ने भी डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को तरजीह देना बंद कर दिया था
  • यानि कुल मिलाकर यह साफ है कि यह राजनीति है ‘साहब’ जिसे आप खत्म समझते हो यह अचानक बेहद मजबूती से ‘जिंदा’ हो उठता है। और कुछ-कुछ यही हुआ है मेरठ भाजपा के दिग्गज नेता डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के साथ।

    विभूति कुमार रस्तोगी, मैनेजिंग एडिटर

8 आठ साल से लंबे समय से पार्टी के हासिए पर रहे यूपी भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी अब मेरठ से लेकर केंद्र तक में पार्टी के ‘प्रिय’ बन गए हैं। मुख्यमंत्री योगी के खास माने जाने वाले डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी का राज्यसभा सांसद बनने के पीछे योगी की बड़ी भूमिका रही है। यही वजह है कि एक समय मेरठ से लेकर केंद्र तक के नेताओं व संगठन के लोगों में अप्रभावहीन रहे डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को लेकर सीएम योगी हमेशा से संजीदा रहे हैं। चुनाव के ठीक पहले उन्हें ज्वाइनिंग कमेटी का अध्यक्ष बनाकर पार्टी ने ब्राह्मण कार्ड खेलने का पूरा मौका लिया लेकिन इस बार पार्टी अपने पूर्व अध्यक्ष को ‘इग्नोर’ नहीं कर सकी और राज्यसभा सांसद बनाकर न केवल उन्हें केंद्र की राजनीति में लाया गया है बल्कि ब्राह्मण का बड़ा चेहरा बनाकर भी पार्टी अब पेश करेगी।
मेरठ में पत्रकारिता के दौरान हमने बीते 4 सालों में यह शिद्दत से महसूस किया कि मेरठ के स्थानीय भाजपा नेताओं ने भी डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को तरजीह देना बंद कर दिया था। बीते 5 सालों में मेरठ की राजनीति पार्टी के मौजूदा महामंत्री अश्विनी त्यागी के ही इर्द-गिर्द घूमती रही। हमें एक वाक्य याद है कि डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने सूरजकुंड रोड स्थित एक बैंक्वट हाॅल में एक कार्यक्रम किया था और उस दौरान पार्टी के महासचिव अरूण सिंह लाए थे लेकिन उनके आने के बाद भी महानगर की भाजपा टीम नदारद रही थी। तब यह खबर भी बनी थी। यानि कुल मिलाकर यह साफ है कि यह राजनीति है ‘साहब’ जिसे आप खत्म समझते हो यह अचानक बेहद मजबूती से ‘जिंदा’ हो उठता है। और कुछ-कुछ यही हुआ है मेरठ भाजपा के दिग्गज नेता डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के साथ। अब वे सांसद बन गए हैं लिहाजा सबके सर्वमान्य बन चुके हैं। बस अब एक कहावत कहना चाहूंगा कि ‘देर आयद-दुरूस्त आयद’—-

मंत्री भी बन सकते हैं केंद्र में
राज्यसभा सांसद बनने के बाद डा. वाजयेयी को लेकर यह कयास लगाए जा रहे हैं कि लोकसभा चुनाव में यूपी में ब्राह्मण कार्ड खेला जाएगा। जिसको लेकर शीर्ष नेतृत्व में अभी से तैयारी शुरू कर दी है। अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो यूपी भाजपा के दिग्गज भाजपा नेता रहे डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की जगह मंत्री बनाया जा सकता है।
एक पर एक फ्री—PURE COTTON से बना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.