एक बार फिर वरुण गांधी कांग्रेस में होंगे शामिल ?

राजनीति

भावना वर्मा/ रोजाना खबर, मेरठ

सूत्र हमेशा से यह दावा करते रहे हैं कि वरुण गांधी और प्रियंका गांधी के बीच बातचीत होती है। दोनों रिश्ते में चचेरे भाई-बहन हैं। ऐसे में यह बातचीत पारिवारिक स्तर पर होती है। लेकिन अब इसमें सियासी एंगल भी आ गया है।

पीलीभीत से भाजपा सांसद वरुण गांधी एक बार फिर से सुर्खियों में हैं। पिछले दो-तीन सालों से वरुण गांधी भाजपा में हाशिए पर चल रहे हैं। वह कई अहम मौकों पर पार्टी के फैसलों के खिलाफ सवाल भी उठाते रहते हैं। ऐसे में इस बात की चर्चा अक्सर होती रहती है कि वरुण गांधी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा उत्तर प्रदेश पहुंची है। इसके बाद फिर वरुण गांधी को लेकर चर्चा तेज हो गई है। सूत्रों का दावा है कि वरुण गांधी कांग्रेस के भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हो सकते हैं।

इसके साथ ही यह भी दावा किया जा रहा है कि 2024 से पहले वरुण गांधी कांग्रेस का हाथ भी थाम सकते हैं। अगर ऐसा ही होता है तो गांधी परिवार में जो बिखराब पिछले कई सालों से चलता रहा है, वह खत्म हो सकता है।

सूत्र हमेशा से यह दावा करते रहे हैं कि वरुण गांधी और प्रियंका गांधी के बीच बातचीत होती है। दोनों रिश्ते में चचेरे भाई-बहन हैं। ऐसे में यह बातचीत पारिवारिक स्तर पर होती है। लेकिन अब इसमें सियासी एंगल भी आ गया है। भाजपा में हाशिए पर बैठे वरुण गांधी अपना भविष्य सुरक्षित रखना चाहते हैं। ऐसे में वह 2024 लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। भाजपा आलाकमान भी वरुण गांधी से खफा रहता है। पीलीभीत से उनके टिकट पर भी खतरा है। फिलहाल कांग्रेस से इस पूरे मामले को प्रियंका गांधी पर छोड़ दिया है। वरुण गांधी को पार्टी में लाना है, पर कैसे लाना है। इस तमाम मसलों पर अब प्रियंका गांधी ही फैसला करेंगे।

राहुल ने दिया था यह जवाब

हाल में ही वरुण गांधी को लेकर राहुल गांधी से सवाल पूछा गया। राहुल गांधी ने कहा था कि वरुण गांधी के पार्टी में शामिल होने के निर्णय पर सवाल कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से कीजिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि भारत में जोड़ने में सबका स्वागत है। लेकिन वरुण गांधी भाजपा में है।

उनको दिक्कत हो जाएगी। इससे पहले वरुण गांधी ने एक संकेत देते हुए कहा था कि इस देश को जोड़ने की राजनीति होनी चाहिए, तोड़ने की नहीं। भाई को भाई से टकराने की राजनीति नहीं होनी चाहिए। लोगों को हिंदू मुसलमान की राजनीति नहीं करनी चाहिए। बेरोजगारी और भुखमरी पर बात होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *