चीन में पैदा होने वालों से ज्यादा मरने वालों की गिनती बढ़ी?

अन्य देश-दुनिया

भावना वर्मा/ रोजाना खबर

सांख्यिकी ब्यूरो ने कहा कि चीन की जनसंख्या (विदेशियों को छोड़कर) 2022 में 850,000 लोगों की गिरावट के साथ 1.41 बिलियन हो गई। सीएनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार देश ने 2022 के लिए 9.56 मिलियन जन्म और 10.41 मिलियन मौतों हुईं।

नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के सबसे अधिक जनसंख्या वाले देश चीन की आबादी में ऐतिहासिक गिरावट देखी गई है। इसकी जन्म दर में 60 से अधिक वर्षों में पहली बार गिरावट दर्ज की गई है। सांख्यिकी ब्यूरो ने कहा कि चीन की जनसंख्या (विदेशियों को छोड़कर) 2022 में 850,000 लोगों की गिरावट के साथ 1.41 बिलियन हो गई। सीएनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार देश ने 2022 के लिए 9.56 मिलियन जन्म और 10.41 मिलियन मौतों हुईं।

राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के अनुसार मुख्य भूमि चीन की आबादी (विदेशियों को छोड़कर) 2021 के अंत में 480,000 से बढ़कर 1.41 बिलियन हो गई थी। राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के आंकड़ों से पता चला है कि 2021 में नए जन्मों में 13% की गिरावट आई है और 2020 में इसमें 22% की गिरावट आई है। इस बीच, देश के स्वास्थ्य अधिकारियों ने खुलासा किया कि 8 दिसंबर, 2022 और 12 जनवरी, 2023 के बीच चीनी अस्पतालों में कोविड-19 से लगभग 60,000 लोगों की मौत हुई।

दुनिया के लिए इसका क्या मतलब है?

घटती जनसंख्या चीन में जनसांख्यिकीय संकट का संकेत हो सकती है। द न्यूयॉर्क टाइम्स ने बताया कि पिछले साल छह दशकों में पहली बार मौतों की संख्या जन्म से अधिक थी। नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स के आंकड़ों ने 2022 में चीन में 9.56 मिलियन जन्म दिखाए, जबकि 10.41 मिलियन लोगों की मौत हुई। यह पहली बार था कि 1960 के दशक की शुरुआत के बाद से चीन में मृत्यु जन्म से अधिक थी, जब माओत्से तुंग के असफल आर्थिक प्रयोग, ग्रेट लीप फॉरवर्ड ने बड़े पैमाने पर अकाल और मृत्यु को बढ़ाया।

विशेषज्ञों ने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि जीवन प्रत्याशा में लंबे समय से चल रही वृद्धि के साथ, चीन को एक जनसांख्यिकीय संकट में धकेल रही है, जिसका परिणाम इस सदी में होगा, न केवल चीन और इसकी अर्थव्यवस्था के लिए बल्कि दुनिया के लिए भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *